Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Sunday, December 28, 2014

0 प्रतिशब्द

बाज़ार जब आदमी का 
आदमीनामा तय कर रहा हो 



जब धरती को स्वप्न की तरह देखने वाली आँखें 
एक सही और सार्थक जनतंत्र की प्रतीक्षा में 
पथरा गई हों 
सभ्यता और उन्नति की आड़ में 
जब मानुष को मारने की कला ही 
जीवित रही  हो
और विकसित हुई हो  धरती पर 

जब कविता  भी 
एक गँवार गड़ेडिया के कंठ से  निकलकर
पढे-लिखे चालाक आदमी के साथ 
अपने मतलब के शहर चली गई हो  
और शोहरत बटोर रही हो  
तब  क्या  बचा  एक कवि  के लिए   ?

टटोल रहा हूँ  
अपने  अंदर  प्रतिशब्दों  को  -
तमाम  खालीपन के बीच 
गूँथ रहा हूँ उनको एक -एक कर 
फिर करुणा और क्रोध की तनी डोरी से 
उन कला-पारंगतों और उनके तंत्र के विरोध में 
जिसने धरती का सब सोना लूट लिया  |
 photo signature_zps7906ce45.png
Blogger Tricks

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।