Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Wednesday, September 25, 2013

4 लौट आ ओ समय - धार

साभार : गूगल 
लौट आ ओ समय - धार 
पगली बसंती बयार -
देह से घूमते - लिपटते धूल-कण
गोधूलि की बेला -
लौटते मवेशियों के खुरों से मटमैली होती 
डूबती साँझ
उसमें बहते बजते लोक-शब्द
सब लौट आ
लौट आ ओ समय - धार 

हाथ की बनी गाँठ
अब दाँत से भी नहीं खुलती
राह में इतनी दीवारें कि
घर का पता सब भूल गए 
लौट आ ओ समय - धार 

कोस भर नदी ने  
अपने रस्ते बदल लिए
पगडंडियाँ सब बिला गईं  
दोस्त- यार अपने गाँव छोड़
धीरे – धीरे जाने कहाँ – कहाँ चले गए
साथ की लड़कियाँ काम-धाम की खोज में
बहुत दूर-दूर चली गईं
न गीत न धुन न थाप न पदचाप
न चौपाल न जामुन-पीपल-महुआ-पलाश के पेड़

दादी के स्वर्गवास के बाद लोरी
नहीँ सुनाई देती

आया हूँ बरसों बाद अपना गाँव
पर ढूँढ नहीं पा रहा अपना वह गाँव
बहुत बदला-बदला सा है अपना गाँव
ईंट-कंक्रीट से बन रहे अपने गाँव में
बहुत बदले-बदले से दिख रहे अब लोग,
-      -  थमे हुए स्वर, गीत-संगीत, रीति-रिवाज

कहाँ है इस गाँव में मेरा गाँव ?
यहीं कहीं था मेरा गाँव 
यह तो रुका हुआ ठाँव है
नहीँ बह रहा मेरा गाँव
हे भगवन,
मेरा गाँव अब तरल नहीँ रहा
वह तो नि: शब्द, मौन और ठोस हो गया है !
लौट आ ओ समय - धार |
 photo signature_zps7906ce45.png
Blogger Tricks

4 टिप्पणियाँ:

कालीपद प्रसाद said...

न समय लौटकर आयगा न वह परिवेश ,हाँ यादें बार बार दस्तक देती रहेगी --- बहुत सुन्दर रचना
Latest post हे निराकार!
latest post कानून और दंड

योगेश स्वप्न said...

Hridaysparshi rachna

Kailash Sharma said...

वे दिन केवल यादों में ही रह गए हैं...बहुत भावपूर्ण रचना..

शोभा said...

Bahut sundar

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।