Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Friday, December 21, 2012

9 लड़की

[चित्र - गूगल से साभार ]



एक (1) -

लड़की के रूप की  
रजनीगंघा खिली है अभी-अभी
उमंग जगी है उसमें अभी-अभी
जीवन का रंग चटका है वहाँ अभी–अभी    


जरूर उसका मकरंद पुरखों के संस्कार
माँ की ममता, पिता के साहस   
भाई के पसीने और दादी-नानी के दुलार से बना होगा  

देखो, कितना टटका दिख रहा वह फूल !

मधुमक्खियों और भ्रमरों तक को
इसकी देह-गंध का पता चल चुका है
घर-आँगन महमहा उठा है उसकी सुवास से  
और वसंत अब उसे घेरने की तैयारी में है |

दो (2)

लड़की अपने साथ वसंत लाती है
लड़की अपने ख्यालों मेँ वसंत बुनती है
लड़की अपने माँ-पिता की नींद चुराती है
लड़की एक दिन घर का काजल, प्यार 
और वसंत लेकर पराये घर चली जाती है |

तीन (3) –

लड़की धीरे-धीरे पूर्ण स्त्री बन जाती है
और पूरी तितिक्षा से अपना एक घर बनाती है
उस घर मेँ उसके सपने पलते हैं
और रजनीगंधा उसके चेहरे से उतरकर
उसके आँगन मेँ खिलने लगती है
उसके होने मात्र से घर भरा-पूरा लगता है |

चार (4) 

लड़की सबसे सुंदर तब दिखती है
जब वह प्रेम मेँ होती है
प्रेम मेँ ही वह अपना संसार रचती है
क्योंकि लड़की को मालुम है
प्रेम का मर्म और सृष्टि का रहस्य

लड़की माया रचती है प्रेम मेँ
फिर योगमाया तक उसका विस्तार करती है |  

पाँच (5) –

काम-रूप-यौवन बिहरने लगते हैं
लड़की से धीरे-धीरे
फिर भी लड़की बचाए रखती है
अपने सीने मेँ अथाह प्रेम  
जो थामे रहता है उसके घर को मजबूती से
और उसे आंधी-बतास से बचाता है

लड़की पककर झड़ने लगती है
अपने आँगन मेँ तुलसी के फूल की तरह
जिसके बीज से फिर
जनमने लगती है नई पौध 

लड़की अपनी योगमाया से
वैष्णवी-सी बन जाती है 
माया का पुन: विस्तार करती है
और जीवनोत्सव मेँ मगन हो जाती है |

Photobucket 
Blogger Tricks

9 टिप्पणियाँ:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

बढ़िया लेखन, बधाई !!

Kishore Kumar Jain said...

घर से विद होती है तो छोङ जाती है सूनापन
वो बहारें वो महक वो खिलखिलाहट
साथ ही ले जाती है
फिर शुरु करती है एक नया जीवन
नयी उमंग व नये परिवेश में

सुभाष नीरव said...

बहुत सुन्दर ! लड़की के विभिन्न रूपों की सुन्दर अभिव्यक्ति !

pran sharma said...

ladkee ke paanchon roop aakarshak hain .

Udan Tashtari said...

शानदार!!

रचना दीक्षित said...

सुशील जी आप लिखते भी बहुत अच्छा है और आपका ब्लॉग भी बहुत अच्छा है तकनीकी रूप से भी यह उत्कृष्ट है.

बहुत बधाई.

vandana said...

सभी कवितायें नारी के कोमल पक्ष उसके सौन्दर्य को चित्रित करती हैं ... बहुत सुन्दर

प्रतिभा सक्सेना said...

गहन अनुभूति एवं मधुर भावों से भरी सुन्दर-सार्थक अभिव्यक्ति हेतु बधाई!

vandana gupta said...

waah lajawab

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।