Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Sunday, November 1, 2009

3 हमें अपने घर लौटना है

साभार गूगल 

म मादरजाद बहरे-अंधे-गूंगे नहीं हैं

हमारे कान उनके भाषणों से पक गए हैं

हमारे दीदे उनकी करतूतें देख-देख फूट गए हैं

उनके तमंचों ने हमारे मुँह पर ताले जड़ दिए हैं

हम इतने ऊबे हुए और उदास हैं कि

हमें अपने घर लौटना है साथियों


वे चाहते हैं कि हमारी आशाओं का सूरज सर्वदा के लिए डूब जाए

हमसब फ़िर अपने रास्ते भूल बैठें उनकी आदिम पशुता के जंगल में

जहाँ खूंखार जानवरों से फिर हमारा सामना हो


उनके विष-दाँतों के चमक उठने के पहले

उनके चोखे पंजों की हरकतों और नीली गुर्राहटों से बच-बचा कर

रात गिरने से पहले ही

अपने-अपने घर लौट आना चाहते हैं हम सब

लेकिन अपनी मिसरी घुली बातों में वे फँसाए रखना चाहते हैं हमें


उनके शब्द जब-जब हमारे कानों में पडे़ हैं

हम सम्मोहित, विपथगामी, पतित हुए हैं और

मतिमंद हो उनके पक्ष में अपने हाथ खडे़ किए हैं


पर उनके जादुई शब्दों की तह में धँसो तो जानो,

आदमखोर जानवरों की हुंफ सुनाई देगी

इसलिए उनकी बातों के तिलस्म में मत पड़ना मेरे भाई

सिर्फ़ अपने हॄदय की सुनना

कैवल्य भाव से अपनी कोठी लौट आना

कोई तुम्हें बुला रहा है, वही तुम्हारा अपना है

बाकी धोखा है, सपना है।


दुनिया में चाहे जितनी गहरी रात पसरी हो

हमारे घरों में निरंतर आशा के दीप जलते रहते हैं

साँसों के ढोल बजते रहते हैं

ठीक वहीं लौटना है हमें, अपने शांतिनिकेतन में।

वहाँ अपने दुखों को फाँककर हम फ़कीर हो जाएँगे

और अलमस्ती के गीत गाएँगे


वहाँ से स्वयं मे जीवन भरकर

जब उनकी दुनिया मे वापस लौटेंगे हम,

उस रात के खिलाफ़ बची हुई लडा़ई की घोषणा करेंगे

जो उसने अपने शब्दों और संगीनों के साये मे

हमारे लिए रचे हैं।
*****
Photobucket
Blogger Tricks

3 टिप्पणियाँ:

RAJNISH PARIHAR said...

हम सब कहीं ना कहीं से वापस लौटना चाहते है,पर लौट नहीं पाते!इसी कशमकश में जिंदगी बीतती जाती है....!हम चाहते है की फिर शान्ति से बैठ कर पुराने लम्हों को जीयें..पर कहाँ होता है ऐसे?

राज भाटिय़ा said...

बहुत ्सुंदर लिखा आज की कशमकशभरी जिन्दगी के बारे, ओर इन हालात पर,
धन्यवाद

रचना दीक्षित said...

बहुत सुंदर भाव पिरोये हैं सब के अंतर्मन की यही व्यथा है

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।