Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Sunday, October 4, 2009

3 डर की दुनिया

साभार:गूगल 
इस दुनिया में

कई-कई दुनियाएँ गुप्त हैं जैसे,

सपनों की दुनिया यादों की दुनिया

या फिर मन में बैठी डर की दुनिया



जैसी भी दुनिया,

गहराई तक धँसती है आदमी में

और उसका अपना अलग चेहरा गढ़ती है



वह चेहरा आदमी को पहनता है हौले-हौले

और गायब होने लगता है

आदमी का अपना बेलौस असली चेहरा !



यह सब पर यकायक नहीं होता

लेकिन जब होता है तो

लुंड-मुंड इस चेहरे पर

वक़्त की राख जमने लगती है

पेशानी पर चिंता की

आरी-तिरछी लकीरें खिंचने लगती हैं



गोया कि अपनी दुनिया से निकलकर आदमी

एक अप्रत्याशित दुनिया में दाखिल हो जाता है

जहाँ दिन-रात दोजख़ की आग जलती है

जिसमें रोज़ उसका नया चेहरा चटकता है।



फिलहाल मसला यह नहीं कि

इस दुनिया में ऐसी कितनी दुनियाएँ हैं

जिसके आगोश में चेहरों की रौनकें बिगड़ रही है

बल्कि ज़रूरी है फिलवक़्त

उन चेहरों की शिनाख़्त

जो दुनिया को एक स्याह डर में

बदल देने पर आमादा हैं



बेरंग होते इस चमन में ढूँढ़नी है हमें

सियासत के वे झमाठ दरख़्त

जिनकी शाखाओं पर

अपराध की अमरलतायें फैलती हैं

जिनकी शिराएँ आदमी के मगज़ में घुसकर

डर और चुप्पियों का एक गुबार बनाती है

जो आदमी के खुशफ़हम इरादों की दुनिया को

अपनी धूल से ढक लेता है।
*****
Blogger Tricks

3 टिप्पणियाँ:

राज भाटिय़ा said...

यह डर हमारे ही बनाये हुये है,फ़िर इन से डर केसा??
बहुत सुंदर कविता लिखी आप ने धन्यवाद

रचना दीक्षित said...

बहुत खूब कहा है शत प्रतिशत सत्य है . इतने तरह के डरों के साये में जीते जीते तो अब आदत सी पड़ गयी है सो कुछ भी नया नहीं लगता है इसी से शायद अपने आसपास घटित कोई भी अनहोनी अब अनहोनी नहीं लगती.ऐसा लगता है ये तो होना ही था.मेरा ब्लॉग भी देखें rachanaravindra.blogspot.com

sandhyagupta said...

Yah sach hai ki dar zeevan ko anushashit karta hai,prabhavit bhi karta hai lekin yah charam satya nahin hai.

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।