Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Sunday, April 26, 2009

26 तुम्हारे शब्दों के खिलाफ़

साभार : गूगल 
न अपनों की दुतकार से
न किसी खंजर के वार से
मैं सबसे ज्यादा
तुम्हारे शब्दों से आहत हूँ
जिसे देते हुए तुमने
मेरी पीठ थपथपायी थी ।

ये शब्द बताशे की तरह मीठे थे
पर एकदम जहरीले थे
हलक में उतरते ही इसने
मेरे सब संवेदी शब्द मार गिराये
और मेरी भाषा नाकाम हो गयी।
बुद्धि भी मेरी मात खा गयी।

इन शब्दों से अब तक
न तो कोई कविता बन सकी,
न कोई गीत
न लोरी, न प्रार्थनाएं ही
चैन और चमन को लूटा है सिर्फ़ इन शब्दों ने ।

मैं अब समझ सकता हूँ
तुम्हारे शब्दों की बानगी
इनके अंखुवे वहीं फूटते हैं
जिस ज़मीन से अपराध के कनखे निकलते हैं
क्योंकि तुम्हारी भाषा की नंगी पीठ
जिन हाथों ने सहलाये हैं
उन्हीं हाथों ने उडा़ये हैं शब्दों के जिन्न
सुरखाब के पर लगाकर
सब ओर दिगंतों तक।

इसलिए हर बुर्ज़, हर इलाके में
गुप्त हो रहे हैं तुम्हारे शब्द अब।

क्यों न इन शब्दों की एक गठरी बनाकर
तुम्हारे चौखट के नीचे जमींदोज कर दूं?
और लौट आऊं नि:शब्द अपने घर।
फ़िर असंख्य मौन दग्ध होठों को जगाकर
तुम्हारे शब्दों के खिलाफ़
एक जंग का एलान कर दूं !
*****************************
Blogger Tricks

26 टिप्पणियाँ:

Dr. Amar Jyoti said...

सुन्दर और सारगर्भित।
बधाई।

श्यामल सुमन said...

अच्छी रचना बन पड़ी शब्द-भाव संयोग।
शब्दों से ही कष्ट है शब्द भगाये रोग।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

Dinanath said...

दमदार अभि्व्यक्ति। कविता में आवेग है।

anshu said...

yah kavita nahi ek jang ka elaan hai kavitaa k madhayam se.Ati sundar.

"अर्श" said...

SUSHEEL JI BAHOT HI SAMVEDANSHIL RACHANAA HAI,BHAV BHI UTNE HI AALAA DARJE KA DAALA HAI AAPNE KHAS KAR YE PRAYOG KE SHABD THE BATAASHE WAALE .. YE PANKTI BAHOT KHUB BHAAYEE... UMDAAA RACHANAA KE LIYE DHERO BADHAAYEE AAPKO..


ARSH

अनुपम अग्रवाल said...

और लौट आऊं नि:शब्द अपने घर।
फ़िर असंख्य मौन दग्ध होठों को जगाकर

adbhut abhivyakti

Shamikh Faraz said...

sunil ji main aap ka bahut bahut shukraguzar hun ke mujhe aap apni post padhne ke lie invite karte hain.aapki kavitayen sach me bahut badhiya hoti hai. gar kabhi waqt mile to mere blog par bhi aayen.

Kishore choudhary said...

सुन्दर कवितायेँ अच्छे लेखन की बधाई !

मोहन वशिष्‍ठ said...

न तीर से न तलवार

बंदा ढेर हो गया
आपकी कविता के अंदाज से

बहुत ही बेहतरीन कविता लिखी है आपने सुशील जी सीधे दिल में उतर गई

दिगम्बर नासवा said...

सही कहा सुशील जी................शब्द का बाण...........असली के बाण से ज्यादा तेज, ज्यादा चुभन रखता है.............बहतरीन रचना

मोहन वशिष्‍ठ said...

न तीर से न तलवार से
बंदा ढेर हो गया
आपकी कविता के अंदाज से

बहुत ही बेहतरीन कविता लिखी है आपने सुशील जी सीधे दिल में उतर गई

PRAN SHARMA said...

SUSHIL KUMAR JEE KE KAVYA KEE ANYA
VISHESHTAAON KE ATIRIKT EK YE BHEE
VISHETAA HAI KI SHABDON KAA NAPAA-
TULAA ROOP.UNKEE HAR KAVITA SUNDAR-
SUNDAR MOTIYON SE PIROYEE HUEE
MAALAA KEE TARAH HOTEE HAI.EK AUR
ACHCHHEE KAVITA KE LIYE UNHE MEREE
HAARDIK BADHAAEE.

सुनील मंथन शर्मा said...

bahut achchha

प्रदीप कांत said...

न अपनों की दुतकार से
न किसी खंजर के वार से
मैं सबसे ज्यादा
तुम्हारे शब्दों से आहत हूँ
जिसे देते हुए तुमने
मेरी पीठ थपथपायी थी ।

सुशील कुमार said...

प्राण शर्मा जी का आभारी हूँ, साथ ही अन्य सभी पाठकों का भी।

Nirmla Kapila said...

यही तो शब्द शिल्पी की खासीय्त है कि मौन मे भी शब्द घडता है बेशक कोई उसके शब्द छ्हीन ले मगर उस्की भावनायेण इतनी सशक्त होती हैं कि वो खुद नये शब्द तलाश लेती हैं और इसी का नाम जीवन है शुभकामनाये आप असे ही भाव्मय लिख्ते रहें

Dr.Bhawna said...

आपकी रचनायें हमेशा ही बहुत अच्छी होती हैं यह रचना भी बहुत पंसद आई बहुत -बहुत बधाई ये पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं-

न अपनों की दुतकार से
न किसी खंजर के वार से
मैं सबसे ज्यादा
तुम्हारे शब्दों से आहत हूँ
जिसे देते हुए तुमने
मेरी पीठ थपथपायी थी ।

क्यों न इन शब्दों की एक गठरी बनाकर
तुम्हारे चौखट के नीचे जमींदोज कर दूं?
और लौट आऊं नि:शब्द अपने घर।
फ़िर असंख्य मौन दग्ध होठों को जगाकर
तुम्हारे शब्दों के खिलाफ़
एक जंग का एलान कर दूं !

Vijay Kumar Sappatti said...

susheel ji , isme koi do mat nahi hai ki aap ek behatreen kavi hai aur aapki ye kavita bhi ek bahut sundar rachna hai .. shabd hi zindagi hote hai aur shabd hi maran ..

badhai sweekar karen..

vijay
www.poemsofvijay.blogspot.com

Mumukshh Ki Rachanain said...

शब्द का बाण असली बाण से ज्यादा तेज, ज्यादा चुभन रखता है.............

इसी पर मेरी चार पंक्तियाँ भी गौर फरमायें............

लगी कब मार की पीड़ा
बात की धार से गहरी
गुंजित गगन में क्यों न हो
विद्रोह भरी स्वर लहरी.

चन्द्र मोहन गुप्ता
www.cmgupta.blogspot.com

सुभाष नीरव said...

Nisandeh ek sunder aur sargarbhit kavita hai. Badhayee !

दिलीप कवठेकर said...

क्यों न इन शब्दों की एक गठरी बनाकर
तुम्हारे चौखट के नीचे जमींदोज कर दूं?
और लौट आऊं नि:शब्द अपने घर।
फ़िर असंख्य मौन दग्ध होठों को जगाकर
तुम्हारे शब्दों के खिलाफ़
एक जंग का एलान कर दूं !

क्या खूब विचार है. मुझे याद आय वह गाना जिसमें रफ़ी साहब नें दिल की आग उगलते हुए गाया था-

मेरे दुश्मन तू मेरी दोस्ती को तरसे....

Anonymous said...

sushil bhai

ek varg vibhajit samaj me shabd bhi kai khancho me bant aate hain. path ki bhi ek rajniti hoti hai. kai baar to pata bhi nahi chalta ki kaise ek jhooth sahajbodh me shamil hota chala jata hai.

isiliye zaroori hai shabdon ko hathiyaar ki tarah istemal karne ki mushkil kala seekhna.

अशोक कुमार पाण्डेय said...

sushil bhai

ek varg vibhajit samaj me shabd bhi kai khancho me bant aate hain. path ki bhi ek rajniti hoti hai. kai baar to pata bhi nahi chalta ki kaise ek jhooth sahajbodh me shamil hota chala jata hai.

isiliye zaroori hai shabdon ko hathiyaar ki tarah istemal karne ki mushkil kala seekhna.

शोभना चौरे said...

bahut hi sateek rachna .
vaise bhi log krele ko shakkar ki chashni me dubokar prosne me mahir ho gye hai

sandhyagupta said...

मैं अब समझ सकता हूँ
तुम्हारे शब्दों की बानगी
इनके अंखुवे वहीं फूटते हैं
जिस ज़मीन से अपराध के कनखे निकलते हैं
क्योंकि तुम्हारी भाषा की नंगी पीठ
जिन हाथों ने सहलाये हैं
उन्हीं हाथों ने उडा़ये हैं शब्दों के जिन्न
सुरखाब के पर लगाकर
सब ओर दिगंतों तक।

Durg ko bedha hai aapne sushil ji.Bahut achcha laga.

neera said...

ati sunder!!

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।