Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Tuesday, February 17, 2009

6 ढीली पड़ती मुट्ठियाँ


मेरी मुट्ठी में डाल थी माँ ने
कलेवा के संग करुणा के कुछ दाने
और संभालकर रखने की ताकीद की थी।

बाबूजी ने रख दिये थे उसमें
थोड़े रुपये और थोड़ी- सी समझ
जो वक्त-बेवक्त अपने काम आये।

दीदी को खुशहाल घर ब्याहने का सपना,
छोटु को आदमी बनाने का जिम्मा
मेरी तंग मुट्ठी में अपनी-अपनी जगह काबिज़ थे।

पत्नी के उदास चेहरे से झाँकती उम्मीदें,
बच्चों की तुतलाती वर्तनी में फँसी इच्छाएँ
कहीं- न- कहीं मुट्ठी में पुलक रहे थे।

मित्रों के चंद सुझाव,
पड़ोसन की मीठी गालियाँ,
अपने-पराये के दर्द का एक कतरा भी
मुट्ठी में दुबके पड़े थे किसी कोने
और सुगबुगा रहे थे।

पर हर दिन ढीली पड़ रही थी मेरी मुट्ठी।

उँगलियों के खुलते कसाव के बीच
फिसल रही थी जतन से रखी एक-एक चीज़।

कोई तोड़ रहा था चुपके-चुपके
मुट्ठी के अहाते में बने
मेरे सपनों के घरौंदे।

मैं कालचक्र में फँसा, घूमता हुआ
तोल रहा था फिर भी अपनी चीज़ें
और सहेजने का यत्न कर रहा था

मैं कोई कविता नहीं कर रहा भाई,
मैं तो लड़ रहा हूँ आज भी
इस सदी के हत्यारे विचार से
जो मेरी मुट्ठी में घुसपैठ कर रहे हैं
और बटोर रहा हूँ
समय की उल्टी बयार में छितराये--
माँ की करुणा
पिता का भरोसा और
रिश्तों-नातों की गर्माहटें।
Photobucket
Blogger Tricks

6 टिप्पणियाँ:

अशोक कुमार पाण्डेय said...

सुशील भाई,
यह आपकी बेहद व्यक्तिगत कविता है जो निज़ी से ग्लोबल तक की यात्रा करती है। इस विपर्यय के कालचक्र मे अपनो के भरोसे और अपनी जनता पर विश्वास के सहारे ही जिया जा सकता है।
बधाई

Manish Kumar said...

अपने जीवन के अनुभवों और संघर्षों को आज के सामाजिक परिपेक्ष्य में इस कविता के माध्यम से खूबसूरती से कह गए हैं आप

Bahadur Patel said...

मैं कोई कविता नहीं कर रहा भाई,
मैं तो लड़ रहा हूँ आज भी
इस सदी के हत्यारे विचार से
जो मेरी मुट्ठी में घुसपैठ कर रहे हैं
bahut behtareen tarike se aapane apani bat kahi hai.prabhavotpadak hai.
और बटोर रहा हूँ
समय की उल्टी बयार में छितराये--
माँ की करुणा
पिता का भरोसा और
रिश्तों-नातों की गर्माहटें।
mere kyal se kavita ko ye panktiyan poori tarah se kolati hai jisase isaka prabhav kamjor ho raha hai.kavita ka ant is tarah se nahin hona chahiye.
yah meri rai hai.
main undertone ki bat kar raha hoon.

sandhyagupta said...
This comment has been removed by the author.
sandhyagupta said...

Sushil ji ki is kavita me antarjagat aur bahirjagat ka dwandwa hai.Jeevan ki visangatiyan aur vidambanaon ka marmsparshi chitran bhi..

durgesh said...

uttam

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।