Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Monday, December 22, 2008

8 भीड़तंत्र

साभार - गूगल

न कोई कल्पवृक्ष

न कामधेनु

न सपने  में कोई देवता

आयेगा पृथवी का दु:ख हरने

दुखों के व्रण बस रिसते रहेंगे

कठमुल्ला भी कलमा पढ़ते रहेंगे

न वेद न संविधान

अबलाओं की लुटती अस्मत बचाएँगे

न नेता न मंत्री न सरकारें

बचा पाएँगे हत्यारों से निरीह जनता

यह जनतंत्र भीड़तंत्र का रचाव मात्र होगा

जो सुबह की छाती पर

रोज़ उठेगा धधकता सूर्य सा

पर ढल जाएगा क्षितिज पर हर साँझ-सा।

जनता की उम्मीदें, विश्वास सब

प्रेत बन घुमेंगे दसों दिशायें

फिर भी किल्विष आत्माएँ ढूँढ लेंगी उन्हें

और पकड़ ले जाएँगी बूथों तक

जबरन वोट डालने।

सड़कों पर लामबंद होंगे लोग फिर

उबलेंगे नपुंसक विचारों की आँच में

चीखेंगे,चिल्लाएँगे

बिलखेंगे,बिलबिलाएँगे

और लौट जाएँगे अपने-अपने कुनबों में वापस

कुंद हो जाएँगी उनकी आवाज़ें

बुझी हुई, राख-सी।

गावों में धूल,

संसद में गुलदस्ते फिर देखे जाएँगे

न सच होंगे न सपने

सच की तरह सपने

सपनों से सच होंगे।

दूर से सब लगेंगे अपने,

हाँ, इस तंत्र का यही

ताना-बाना होगा।
Blogger Tricks

8 टिप्पणियाँ:

रश्मि प्रभा said...

akshar shabd bante hain,aah tej bante hain,niraasha jab gahri ho jati hai to aasha ki kirno ka sanchaar hota hai......
aaj ki paristhiti ka jo khaaka aapne kheencha hai wah sajeev bankar ubhra hai,bahut hi achhi rachna......

अशोक मधुप said...

बहुत ही अच्ठी कविता

Amit said...

bahut he acchi kavita likhi hai aapne...

प्रकाश बादल said...

वाह सुशील जी आपका ये दूसरा ब्लॉग देखकर बहुत अच्छा लगा और आपकी एक बढ़िया कविता पढ़्ने को मिली।

नव वर्ष की एक बार फिर शुभकामनाएं।

दिगम्बर नासवा said...

बहुत खूबसूरत कविता, नयी सोच

तरूश्री शर्मा said...

गावों में धूल,
संसद में गुलदस्ते फिर देखे जाएँगे...
न सच होंगे न सपने,
सच की तरह सपने
सपनों से सच होंगे।

बढ़िया कविता है सुशील जी। तंत्र से निराश हर इंसान की आवाज झंकृत होती है इस कविता में।

प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर said...

हिन्दी ब्लॉग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है, मेरी शुभकामनायें.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

प्राइमरी का मास्टर का पीछा करें

Manoj Kumar Soni said...

सच कहा है
बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .(हटाने के लिये देखे http://www.manojsoni.co.nr )
कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।