Blogger Widgets
नवीनतम पोस्ट -

Wednesday, December 31, 2008

1 अभिनंदन नववर्ष 2009 का !


वर्षांत का विदाई करें ,

आईये करें अभिनंदन वर्ष 2009 का ।

रचें रचना में जन के संघर्ष , अंतर्द्वंद्व को

आवाज़ दे बेआवाज़ को, सहारा दें बेसहारा को ।

शब्दों का ऐसा नगाड़ा बजायें कि जनतंत्र के उल्लू बिला जाये और रात

भी इतना जगजग कर दें कि फिर वह वापस हमारी दुनिया मे न आ पाये !

मैं सभी पाठकों का हार्दिक अभिनंदन करता हूँ वर्ष 2009 में !
Blogger Tricks

1 टिप्पणियाँ:

मोहिन्दर कुमार said...

सुशील जी,

आपको तथा आपके परिवार को नव वर्ष की शुभकामनायें..

आपने बहुत ही सुन्दर लिखा है...
"रचें रचना में जन के संघर्ष , अंतर्द्वंद्व को

आवाज़ दे बेआवाज़ को, सहारा दें बेसहारा को ।"
रचना कार का यही धर्म है... कि रचना करे न कि विध्वंस"
सुन्दर ब्लोग है आपका अब तो आना जाना लगा रहेगा...

टिप्पणी-प्रकोष्ठ में आपका स्वागत है! रचनाओं पर आपकी गंभीर और समालोचनात्मक टिप्पणियाँ मुझे बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देती हैं। अत: कृप्या बेबाक़ी से अपनी राय रखें...

हाल की रचनाओं के लिंक -

हिन्दयुग्म - वार्षिकोत्सव- 2010 >>

- हिन्द युग्म के सौजन्य से राजेन्द्र भवन सभागार, नई दिल्ली-01 में सुशील कुमार के काव्य-संग्रह "तुम्हारे शब्दों से अलग" का विमोचन दि. 05 मार्च, 2011 को हुआ ।